Responsive Ad Code Here

कोर्ट मैरिज कैसे करें 2022 - कोर्ट मैरिज करने की उम्र - कोर्ट मैरिज की फीस - कोर्ट मैरिज करने की पूरी प्रक्रिया

कोर्ट मैरिज करने का तरीका, How to do court marriage in hindi, कोर्ट मैरिज करने की उम्र ?, कोर्ट मैरिज कौन नही कर सकता हैं ?, कोर्ट मैरिज कैसे कर सकते है, कोर्ट मैरिज करने की पूरी प्रक्रिया, कोर्ट मैरिज करने की क़ानूनी प्रक्रिया क्या हैं ?, कोर्ट मैरिज कैसे होगी ? कोर्ट मैरिज की फीस कितनी होती है


तो दोस्तो ऊपर दिये गए सवालो के जवाब अगर आप जानना चाहते हो तो आपको इस पोस्ट को पूरा लास्ट तक पढ़ना होगा और मे आपको बता दूँ की आज कल बहुत सारी गलत धारणाएं भी है कोर्ट मैरिज को लेकर जो की आज की पोस्ट मे हम आपको बताने बाले है तो चलिये जानते है की कोर्ट मैरिज कैसे कर सकते है


कोर्ट मैरिज करने की उम्र


तो आजके इस आर्टिकल मे हम कोर्ट मैरिज की सम्पूर्ण जानकारियां आपको देने वाले हैं और इसके साथ साथ हम आप को यह भी बताने बाले है की कोर्ट मैरिज करने का सही तरीका और सही उम्र क्या हैं देखा जैसे तो आज कल बहुत से ऐसे कपल है जो बहुत जल्द कोर्ट मैरिज करना चाहते है।


लेकिन उनको इसकी जानकारी नहीं है की इसमे क्या करना होता है कोर्ट मैरिज कैसे की जाती है इसके बारे मे कोई जानकारी उसके पर नहीं है और वो जल्दबाज़ी मे कोर्ट मैरिज कर लेते है जिसके बाद उन्हे बाद मे काफी सारी दिक्कतों का सामना करना पढ़ता है तो अगर आपको भी कोर्ट मैरिज करना है तो आपको हमारे इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ लेना चाहिए।


अब आप सोच रहे होगे की भला कोर्ट मैरिज होने के बाद क्या परेशानी हो सकती है अब तो कोर्ट मैरिज हो गई अब कोई अलग नहींकर सकता हमे तो मे आपको बता दूँ की आप गलत हो तो चलिये जानते है की कोर्ट मैरिज सही तरीके से नही करने पर कपल को किन दिक्कतों का सामना करना पढ़ सकता है।


कोर्ट मैरिज सही तरीके से नहीं करने के परिणाम

वैसे आपने कभी न कभी किसी के मुंह से या न्यूज़ मे जरूर सुना होगा की प्रेम विवाह करने के बाद भी लड़की या फिर लड़के के घर वाले दोनों कपल को जुदा करने पर अड़े होते है कई बार तो जन से मरने की धमकी भी दे दी जाती है या उनके पीछे गुंडे लगा देते हैं।


या फिर पुलिस थाने में fir दे देते है उन कपल की खिलाफ फिर पुलिस जांच पड़ताल करके उन कपल को खोज लेती है और फिर आप जितना मर्जी चीखते चिल्लाते रहो की ये सादी हम दोनों ने अपनी मर्जी से कोर्ट मे की है लेकिन पुलिस उने गिरफ्त्तर कर के जेल मे डाल ही देती है जिसके बाद आपके पास पछताने की सिवा और कुछ नहीं बचता है।


भगवान ना करे की आपके साथ कभी ऐसा हो लेकिन कई बार ऐसा हुआ भी है की उन दोनों को अलग कर दिया जाता है ऐसे मे लड़का खुदखुसी कर लेता है जिसके बाद लड़की से ये सहन नहीं होता है और लड़की भी यही कदम उठा लेती है जो की गलता है आप ऐसा कभी भी ना करें।


अब आप के मन में एक सवाल जरूर आ रहा होगा की इतना कुछ होने के बाद भी कानून कुछ क्यूँ नहीं करता है तो मे आपको बता दूँ की इसमे कानून की नही बल्कि कपल की गलती होती है अगर कपल कोर्ट मैरिज सही तरीके से करते तो उनके साथ गलता कुछ भी नहीं होता।


वैसे आपको ये बात जानकार बहुत अधिक दुख होगा की हमारे देश भारत में ही हर एक साल मे हजारो लाखो कपल ऐसे ही अपनी जान सिर्फ कोर्ट मैरिज गलत तरीके से करने की वजह से गाबा देते है लेकिन अगर आप भी कोर्ट मैरिज करना चाहते हो तो आपको इसके सही तरीके के बारे मे जानना बहुत जरूरी है।


कोर्ट मैरिज करने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए?

अगर कोई कपल प्रेम विवाह यानि की कोर्ट मैरिज करना चाहते हैं तो कोर्ट मैरिज की पहली शर्त होती है की लड़की की उम्र 18 वर्ष या फिर इससे अधिक होनी चाहिए और वही लड़के की उम्र 21 वर्ष या फिर इससे अधिक होना चाहिए और ये जरूरी है वरना आपकी कोर्ट मैरिज नहीं हो सकती।


अब आप ये बिलकुल भी ना सोचे की कोर्ट मैरिज की सिर्फ एक ही शर्ते है बल्कि इसके अलावा भी कई और शर्ते कानून व नियम हैं जिसका पूरी तरहा से पालन होने पर ही कोई भी कपल कोर्ट मैरिज कर सकते हैं।


अगर आप भी कोर्ट मैरिज करने जा रहे हैं और आप को कोर्ट मैरिज कैसे करे इसकी बारे में कुछ भी पता नही हैं तो आपको हमारे इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ना चाहिए क्यूकी इससे जुड़ी सारी जानकारी आज आपको देने बाले है।


कोर्ट मैरिज की फीस कितनी है 2022

इतना सब जानने के बाद आपके मन में ये सवाल जरूर होगा की आखिर Court Marriage Fees 2022 कितनी होती है तो में आपको बता दूँ की कोर्ट मैरिज करने की कोई फीस नहीं है इसमें आपको बस स्टाम्प ड्यूटी देने होगे जो की 50 या 100 रुपये का होता है इस एक्ट के अनुसार भारत में रहने वाले स्त्री पुरुष वह चाहे किसी भी धर्म को फॉलो करते हो वो विवाह कर सकते है।


एक दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें?

जब भी एक लड़का और लड़की घर वालों से चुप कर कोर्ट मैरिज करना चाहते है तो उनके पास ज्यादा समय नहीं होता है इस लिए वो इंटरनेट पर 1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें? इसके तरीके खोजने लगते है लेकिन में आपको बता दूँ ऐसा नहीं हो सकता क्यूकी आपके द्वारा सारे प्रमाण पत्र देने के बाद रजिस्ट्रार ऑफिस से एक नोटिस आपके घर भेजा जाता है। 


और उसके बाद विवाह का समाचार वहां के लोकल न्यूज़ पेपर में भी निकाला जाता है और ये सब प्रक्रिया होने में कई दिन का समय लगता है यही वजहा है की आप 1 दिन में कोर्ट मैरिज नहीं कर सकते लेकिन एक और तरीका है जिससे आपका विवाह एक दिन में हो जाएगा चलिये जानते है वो क्या तरीका है।


अगर आप 1 दिन में विवाह करना चाहते हो और आप हिंदू धर्म को फॉलो करते हो तो आप किसी भी मंदिर में जाकर विवाह करके बहा से सर्टिफिकेट बनवा ले और अपने रजिस्ट्रार ऑफिस में एक एप्लीकेशन मैरिज सर्टिफिकेट के लिए आवेदन करें यह सर्टिफिकेट बनाने में बस एक दिन का ही समय लगेगा।


कोर्ट मैरिज के बाद क्या होता है?

बहुत से ऐसे Couple होते है जो ये सोचते है की अगर हम कोर्ट मैरिज कर ले तो उसके बाद क्या होगा तो में आपको बता दूँ की कोर्ट मैरिज होने के बाद आपको शादी का एक प्रमाण पत्र मिल जाता है लेकिन नॉर्मल मैरिज के बाद कोर्ट में रजिस्ट्रेशन कराना होता है उसके बाद शादी का प्रमाण पत्र मिलता है।


बता दें की मैरिज रजिस्ट्रेशन एक ऑफिशियल सर्टिफ़िकेट है जो ये साबित करता है कि आप दोनों शादी-शुदा हो भारत में शादियों का रजिस्ट्रेशन हिंदू मैरिज एक्ट 1955 या फिर स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 के तहत किया जा सकता है।


कोर्ट मैरिज में क्या-क्या डॉक्यूमेंट लगते है?

जब भी एक लड़का और लड़की कोर्ट मैरिज करने की सोचते है तो वो सबसे पहले इंटरनेट पर सर्च करते है कोर्ट मैरिज कैसे करें और साथ ही कोर्ट मैरिज करने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए अगर आप भी कोर्ट मैरिज करना चाहते हो तो चलिए हम आपको बताते है किया आपको कौन कौन से डॉक्यूमेंट की जरूरत होगी।

1 - विवाह पंजीकरण आवेदन पत्र।

2 - विवहा का साक्छ।

3 - फोटो 2 जोड़े में।

4 - दोनों के आयु का प्रमाण पत्र जैसे की जन्म प्रमाण पत्र या हाईस्कूल की मार्कशीट।

5 - निवास प्रमाण पत्र जैसे की आधार कार्ड, वोटर कार्ड या फिर ड्राइविंग लाइसेंस।

6 - दो गवाह  साथ ही उनकी भी फोटो चाहिए होगी।


कोर्ट मैरिज कैंसल कैसे करें?

कई बार आपके मन मे ये सवाल भी आता होगा की क्या हम कोर्ट मैरिज को कैंसल कर सकते है या नहीं तो मे आपको बता दूँ की अगर रजिस्टर्ड हो गई है तो अब कोर्ट मैरिज कैंसल नहीं हो सकती है।


वैसे ये भी एक तरहा से विवाह ही है जैसे की ये बात तो आपको पता ही होगी की एक बार शादी हो जाने के बाद सिर्फ तलाक ही आखिरी रास्ता है दोनों को अलग होने का उसी तरह कोर्ट मैरिज में भी सिर्फ तलाक ही होगा।

<


लेकिन हाँ मे आपको बता दूँ की अगर कुछ और गलतियां होती है आपकी कोर्ट मैरिज में जैसे कि उम्र नहीं हुई है या दस्तावेज मे कुछ कमी है तो ऐसे मे आपकी मैरिज कैंसल हो सकती है।


कोर्ट मैरिज करने की पूरी प्रक्रिया क्या है

वैसे तो कोर्ट मैरिज पूरे भारत मे मान्यता है लेकिन फिर भी कोर्ट मैरिज की प्रक्रिया अलग अलग राज्यो के नियमानुसार अलग अलग हो सकती है कोर्ट मैरिज करने के लिए सबसे पहले आपको निम्नलिखित दस्तवेजो की आवश्यकता होगी।


  • कोर्ट मैरिज के लिए सबसे पहले लड़का और लड़की के वयस्क का दस्तावेज (वोटर आईडी, लाईसेंस आदि) जरूरी है।
  • इसके अलबा दसवीं कक्षा की मार्कशीट एक बेहद विश्वसनीय दस्तावेज है।
  • इसके अलबा आपके माता पिता का सहमति पत्र यह एक शपथ पत्र होगा जिसमें उनके हस्ताक्षर व उनकी आईडी की कॉपी होगी।
  • और 3 स्वतंत्र गवाह जो की आपको पहचान के हों और गवाह के तौर पर हस्ताक्षर कर सकें।
  • इन सबके साथ साथ लड़का व लड़की के स्वयं के घोषणा पत्र व शपथ पत्र जिसका प्रारूप स्थानीय कोर्ट या रजिस्टर अथॉरिटी के पास उपलब्ध होता है।
यही सब नहीं बल्कि इन सभी दस्तवेजो के साथ एक फॉर्म भी भर कर कोर्ट में जमा करना होगा फॉर्म जमा होने के बाद 3 दिन में आपको एक दिनांक दी जाती है उस दिनाक पर आपको सभी दस्तवेजो और गवाहों के साथ उपलब्ध होना होगा।

अब जिस दिन आपसे कुछ सवाल व उनके पंजीयन के उपरांत आपको कुछ दिन का समय प्रमाण पत्र के लिए दिया जाता है जो की आधिकारिक कोर्ट मैरिज का सर्टिफिकेट होता है।

कोर्ट मैरिज कितने दिन में पक्की होती है?
तो चलिये अब जानते है की कोर्ट मैरिज में कितना समय लगता है तो हम आपको बता दें की कोर्ट मैरिज करने में लगभग 36 दिन का समय लगता है कोर्ट मैरिज करने के लिए सबसे पहले आपको अपने नजदीकी रजिस्ट्रार ऑफिस में एक एप्लीकेशन देनी होती है।

लव मैरिज करना अच्छा है या अरेंज मैरिज?
ये तो हम सब जानते है की विवाह एक बहुत ही महत्वपूर्ण सामाजिक रिवाज़ है हर कोई अपने लिए एक अच्छा और सुंदर जीवन साथी चाहता है वैसे देखा जाए तो ज़्यादातर व्यक्ति अपने जीवन साथी को अपने आप चुनना ज्यादा पसंद करते हैं।

लेकिन अरेंज मैरिज में ऐसा नहीं होता है अरेंज मैरिज मे रिश्तेदार या फिर आपके माता-पिता आपके लिए आपका जीवनसाथी चुनते है तो चलिए दोस्तो अब हम कुछ पहलू पर एक नजर डालते है जिससे आपको समझ आ जाएगा की लव मैरिज अच्छी है की अरेंज मैरिज।

प्रेम विवाह
लव मैरिज यानि की प्रेम विवाहा मे दोनों पहले से ही एक-दूसरे को जानते हैं की आपको क्या पसंद है क्या नहीं और बिना किसी संदेह के अपने पूरे जीवन को एक-दूसरे के साथ बिताने का फैसला करते हैं।

प्रम विवहा मे अगर भविष्य में कुछ भी होता है तो इसमे दोष केवल उन दोनों का ही हैं ऐसे मे आपके घर बाले भी ये बोल सकते है आपको की हमने तो पहले ही मना किया था अब खुद ही भुगतो।

प्रम विवाहा मे एक-दूसरे की पसंद और नापसंदों से दोनों ही वाकिफ होते है इसलिए वे अच्छी तरह से मिल जुल कर रह शकते है जीवन भर।

प्रम विवाहा मे सबसे अच्छी बात क सामाजिक तौर पर दहेज जैसे रिवाज़ को खत्म कर सकते है क्योंकि उनके पास अपने सभी निर्णय लेने की खुली आजादी है और लव मैरिजमे आपका ज्यादा खर्च नहीं होता है।

अरेंज मैरिज
सुगंत विवाह अकेले दो व्यक्तियों के बीच एक अनुबंध नहीं है बल्कि ये विवाहा दो परिवारों का संगम है।

यहाँ अधिक लोगों को शामिल करके विवाह कर रहे हैं दोनों के बीच संघर्ष को प्रभावी ढंग से हल हो सकता है।

इसमे आप दोनों एक दूसरे को बिलकुल भी नहीं जानते क्या पसंद है क्या नहीं ये भी नहीं जानते न ही आप दोनों आज से पहले कभी मिले हो।

वैसे तो भगवान न करे लेकिन अगर भविष्य में आपके विवाहा को लेकर कुछ अन बन होती है तब ऐसे मे आप अपने पता पिता को बोल सकते हो वो आपका पूरा साथ देंगे ऐसे मे क्यूकी आपका विवहा उन्होने अपनी पसंद से कराया है।

अंतिम शब्द -
तो दोस्तो उम्मीद करता हूँ की अब आप सब कुछ समझ गए होगे और आपको अच्छे से ये समझ आ गया होगा की कोर्ट मैरिज कैसे करें? और कोर्ट मैरिज की फीस कितनी होती है? इसके साथ ये भी की कोर्ट मैरिज करने के लिए कितनी उम्र होनी चाहिए? आदि।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो आप हमरे इस आर्टिकल को अपने और दोस्तो के साथ शेयर कर सकते हो यदि आपका कोर्ट मैरिज से जुड़ा कोई भी सवाल है तो आप कमेंट में पुंछ सकते हो और आपको हमार पोस्ट कैसा लगा ये आप हमे कमेंट करके जरूर बताना शुक्रिया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ