इंटरनेट का मालिक कौन है? - Who Owns The Internet in Hindi - Hindi Trendy

Breaking

रविवार, 18 अप्रैल 2021

इंटरनेट का मालिक कौन है? - Who Owns The Internet in Hindi

वैसे आज के समय में बच्चे बूढ़े या जवान लगभग हर कोई इंटरनेट का इस्तेमाल करता ही है लेकिन क्या आपको पता है की जिस इंटरनेट को हम सब इस्तेमाल करते है उस इंटरनेट का मालिक कौन है - Who Owns The Internet in Hindi शायद आपको इसका जवाब पता नहीं होगा तो चलिये आजके इस आर्टिकल मे इंटरनेट से जुड़े कई सारे सवालो के जबाब देने वाले है जो आपको पहले से पता नहीं होगे।


तो आज हम जानेंगे जैसे की इंटरनेट क्या है, या फिर इंटरनेट कैसे बना, इंटरनेट का मालिक कौन है यही नहीं बल्कि ऐसे ही और कई भी सारे सवालो के जवाब आज आपको मिल जाएगे तो चलिये जानते है।


वैसे मुझे लगता है आपके मन मे होगा की जिस इंटरनेट का उपयोग पूरी दुनिया करती हैं उस इंटरनेट का मालिक तो दुनिया का सबसे अमीर इंसान होगा क्योंकि इंटरनेट के बिना तो सब कुछ अधूरा हैं और ये बात हम सभी जानते है इंटरनेट का मालिक कौन है ये जानने से पहले चलिये कुछ और जानकारी देते है आपको।


HTTP की फुलफॉर्म क्या है?
अगर आपको भी नहीं पता तो मे आपको बता दूँ की HTTPS का full form "HyperText Transfer Protocol" है।

HTTPS की फुलफॉर्म क्या है?
HTTPS का full form "HyperText Transfer Protocol Secured" है।

इंटरनेट क्या है?
तो चलिये सबसे पहले जानते है की आखिर ये इंटरनेट है क्या तो मे आपको बता दूँ की इंटरनेट का पूरा नाम interconnected networks हैं वैसे इसे world wide web या Web के नाम से भी जाना जाता हैं यह एक ऐसा नेटवर्क है जो की लगभग पूरी दुनिया के सर्वर से जुड़ा है।


हम आपको बता दे की इंटरनेट दुनिया भर के कंप्यूटर को एक सिस्टम में जोड़ता है इंटरनेट में कई उच्च-बैंडविड्थ शामिल होते हैं जिसको इंटरनेट की रीड की हड्डी समझा जाता हैं यह एक अत्यंत व्यस्त कंप्यूटर नेटवर्क हैं।

वैसे मे आपको बता दूँ की इंटरनेट एक महाजाल के जैसा ही है इंटरनेट आज के इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की दुनिया में एक बिल्कुल आधुनिक प्रणाली हैं आज के समय मे इंटरनेट पूरी दुनिया में जानकारी और संचार का आदान प्रदान करता है.इंटरनेट मे बिना ज़िंदगी अधूरी है आज के समय मे क्यूकी हमारे ज्यादा तर काम इंटरनेट पर ही निर्भर होते है।

इंटरनेट का विकास कहाँ कब और कैसे हुआ। 
तो इंटरनेट का अविष्कार अमेरिका के द्वारा किया गया था इंटरनेट के विकास का मुख्य कारण युध्द था जो की 1960,70 के दशक में अमेरिका और रूस के बीच चल रहा था इस युद्ध मे परमाणु हमले वाले हालत बन गए थे तब अमेरिका को लगा की अगर ऐसा हुआ तो हमे आपने ही देश से कॉन्टेक्ट करने में मुश्किल होगी।

उसके बाद अमेरिका ने एक ऐसे नेटवर्क को तयार करने का सोचा जो अंडर ग्राउंड हो जिसकी मदद से एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर आसानी से कनेक्ट किया जा सके जिसके द्वारा देश के सभी सरकारी लोग आपस मे जुड़े रहें और ऐसे नेटवर्क को बनाने के लिए अमेरिका ने ARPA (Advanced Research Projects Agency) को नियुक्त किया गया।

उसके बाद अमेरिका के ARPA और अमेरिका सरकार दोनों ने मिल कर एक Arpanet नाम का एक नेटवर्क तयार किया उसके बाद सभी कंप्यूटर को Arpanet से जोड़ा गया और साल 1990 के आते आते ये निजी नेटवर्क से सार्वजानिक नेटवर्क बना गया और उसके बाद इसका नाम बादल कर Internet  रखा गया लेकिन उस समय इंटरनेट पर कोई भी वेबसाइट या डोमैन जैसी कोई चीज़ नहीं हुआ करती थी।

भारत में इंटरनेट की शुरुआत कब हुई थी?
बहुत से लोग ऐसे भी जिन्हें ये नहीं पता की भारत मे इंटरनेट की शुरुआत कब हुई थी तो मे आपको बता दूँ की भारत में 15 August 1995 में इंटरनेट की शुरुआत हो गई थी और भारत मे इंटरनेट को VSNL यानि की Videsh Sanchar Nigam Limited द्वारा Launch किया गया था लेकिन जैसे जैसे समय बदलता गया वैसे वैसे प्राइवेट कम्पनीओ जैसे की Airtel , Idea Vodfone, Jio आदि इन कम्पनीओ ने भी शुरू कर दिया।

इंटरनेट आता कहां से है?
अगर साधारण शब्दों में कहा जाए तो आज के समय मे इंटरनेट एक ऐसा माध्यम हैं जो हमारे ज़्यादातर काम करने में मदद करता हैं अगर आपको किसी व्यक्ति को कोई मैसेज या कोई ईमेल भेजना है तो वो इंटरनेट की मदद से भेजा जा सकता है आज अगर आप हमारा ये आर्टिकल पढ़ रहे हो तो ये भी इंटरनेट की वजहा से पढ़ पा रहे हो।

किसी को मैसेज भेजना या किसी वैबसाइट को ओपेन करना ऐसे सभी कामों को करने के लिए इंटरनेट दूसरे सर्वर को कमांड भेजता है जैसे ही यह रिक्वेस्ट दूसरे सर्वर तक पहुँचती है वैसे ही वो सर्वर आपकी रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट करके उसका रिजल्ट आप के फोन या फिर आपके लैपटॉप पर भेज देता है।

इंटरनेट पर कितनी वेबसाइट है?
इस सवाल का कोई भी सटीक उत्तर नहीं है लेकिन हाँ Google के अनुसार Google के डेटाबेस में 1000 अरब से भी ज्यादा वेबपेज मौजूद है और ये संख्या हर रोज बढ़ती ही जा रही है पूरी दुनिया मे प्रतिमिटन लगभग 5 लाख नए वेबपेज बनाए जा रहे है अगर आप सोच रहे हो की इंटरनेट पर कुल कितना डाटा है तो मे आपको बता दूँ की इसका सही जबाब किसी के पास मौजूद नहीं है।

इंटरनेट को कंट्रोल कौन करता है?
अगर आपके मन मे भी ये सवाल आ रहा है कि आखिर इंटरनेट को कौन चलाता हैं? तो मे आपको बता दूँ की इंटरनेट को 3 TR के द्वारा मेंटेन किया जाता है तो चलिये अब ये भी जान लेते है की ये 3TR क्या है तो TR1 में  वो सब कंपनी आती हैं जिन्होंने समुद्र के अंदर पानी मे sabmarine cable बिछाया है।

आपको शायद पता नहो हो लेकिन इन केबल के जरिए ही इंटरनेट एक device को दूसरे device से जोड़ता हैं और यही नहीं बल्कि इन केबल के जरिए ही सभी डाटा फ़ाइल एक जगह से दूसरी जगह भेजी जाती है और ये सभी कंपनी इंटरनेशनल लेवल पर अपना काम करती है।

बहीं TR2 में वो कंपनी आती हैं जो TR1 से कम पैसे में इंटरनेट खरीद कर TR3 को बेचने का काम करती है और ये कंपनी नेशनल लेवल पर की काम करती है और इन कंपनी में रिलायंस जियो, एयरटेल, वोडाफोन जैसी कंपनी के नाम आते है।

अब अगर बात करें TR3 की तो इसमे वे कंपनी आती है जो TR2 से कनेंक्शन लेकर इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले लोगो तक पहुँचती हैं वैसे आज के समय मे मोबाइल के क्षेत्र में तो अब TR3 की जरूरत नहीं है लेकिन हाँ वाईफाई का कनेक्शन लेने के लिए इसकी जरूरत पड़ती है तो अब आप समझ गए होगे की 3TR क्या है और ये कैसे काम करता है।

WWW क्या है?
आपने जब भी किसिस वैबसाइट का लिंक देखा होगा तो उसके शुरू मे अपने द्ख होगा www लेकिन क्या आप जानते हो इसका क्या मतलब होता है और WWW की फुल फॉर्म क्या होती है चलिये हम बताते है तो www की Full फॉर्म World Wide Web होती है और ये दुनिया भर में इंटरनेट से जुड़ी सारी वेबसाइटों का एक सेट है।

इसके द्वारा ही किसी भी वेबसाइट को उसका नाम दिया जाता है www ही दुनिया मे सभी कम्प्युटर को एक दूसरे के साथ जोड़ना होता है अपने देखा होगा की सभी वेबसाइट के नाम से पहले www यूज़ होता है जैसे की www.hinditrendy.com ये मेरी साइट तो जैसा की आप देख सकते हो इसमें भी www पहले यूज़ क्या गया है क्यूकी www इंटरनेट को एक्ससे करने के लिए यूज़ क्या जाता है।

इंटरनेट का मालिक कौन है?
अब देखिये मे आपको आसान भाषा मे समझने की कोशिश करता हु तो अगर देखा जाए तो इस इंटरनेट के मालिक हम सभी है जो लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते है या फिर इंटरनेट का मालिक कोई भी नहीं है क्यूकी देखा जाये तो कोई भी एक इंसान या फिर कोई एक संगठन इन्टरनेट का मालिक नहीं है या फिर कोई भी व्यक्ति या संगठन इन्टरनेट को पूरी तरह से नहीं चलाते है।

इन्टरनेट ज्यादा एक concept पर आधारित है बजाय के एक असली tangible entity हो, ये पूरी Internet निर्भर होती है physical infrastructure के ऊपर जो की connect करता है networks को एक दूसरे के साथ में असल में देखा जाये तो पूरे internet पर मालिकाना हक़ उन सभी लोगों का है जो जो लोग इसका यूस करते है।

क्या सीखा आज
तो दोस्तो मे आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी और आपको काफी कुछ नई जानकारी जानने के लिए मिली होगी अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया तो आप इसे अपने दोस्तो मे शेयर करें और हमे कमेंट करके जरूर बताए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Please Do Note Enter Any Spam Link In The Comment Box