Monday, 2 July 2018

Where the bodies of people killed in the Mahabharata war आखिर कहां गये महाभारत युद्ध में मारे गये लोगों के शव

दोस्तो यह बात तो हम सब जानते ही है की हमारे भारत देश का इतिहास युद्धों से भरा हुआ है. यहाँ तक की प्राचीन काल से लेकर अब तक हुये युद्धों और उनमें मारे गये लोगों की संख्या भी अनगिनत हैं. और कहा जाता है की महाभारत के युद्ध में तो खून की नदियां भी बही थीं और इस युद्ध मे इतिहास के सबसे बड़े लोगों ने अपने प्राणों की आहूति दी थी लेकिन बहीं कुछ लोगो का तो यह भी मानना है की महभरात का युद्ध कभी हुआ ही नहीं था और वो इस लिए ऐसा बोलते है क्यूकी महभरात के उस युद्ध में मारे गये लोगों का एक भी शव नहीं मिला था अगर अगर में आपसे पुंछू की महाभारत का युद्ध हुआ था तो कहां गये उसमे मारे गए लोगो के शव तो आपका जवाब होगा नहीं पता तो आप अगर जानना चाहते हैं तो चलिये जानते है। 
Mahabharat me mare gaye logo ke shav kahan gaye
दोस्तो आपको पता ही होगी या फिर आपने किसी से यह बात सुनी या फिर कहीं न कहीं पड़ी होगी की श्रीराम ने रामसेतु का निर्माण करवाया था, और इस तथ्य के साक्ष्य के रूप में वैज्ञानिकों ने वह पुल तो खोज निकाला लेकिन आपको बता दे महाभारत का वो भयंकर युद्ध वाकई घटित हुआ था इस बात के प्रमाण प्राप्त करने के लिए आज तक प्रयास किये जा रहे है. अभी कोई खास बात पता नहीं लगी है। Mahabharat me mare gaye logo ke shav kahan gaye
आज के दौर में मारे गए दुश्मन के शव के दुर्व्यवहार किया जाता हो लेकिन पहले ऐसा नहीं किया जाता था. आपको बता दे की महाभारत का युद्ध दिन ढलते ही रोक दिया जाता था जिन लोगों के भी शव भूमि पर पड़े होते थे उनके साथ के लोगो द्वारा शवो का अंतिम संस्कार कर दिया जाता होगा या फिर यह भी हो सकता है की उनके शवों को उनके परिवार को सौंप दिया जाता होगा. और फिर अंतिम संस्कार के बाद तो सिर्फ राख ही बचती है. इस लिए उनके शव नहीं मिले आज तक किसी को भी। Mahabharat me mare gaye logo ke shav kahan gaye
अगर अब बात करे इतिहासकारों के अनुसार तो अमल नंदन जो एक प्रसिद्ध इतिहासकार है और इन्होंने ही कुरुक्षेत्र के पौराणिक इतिहास का विस्तृत से अध्ययन किया था, आपको बता दे इनका यह कहना है कि उत्तरायन के दिन जब भीष्म पितामाह ने अंतिम सांस ली थी, तो उसी दिन युद्ध समाप्त होने के तुरंत बाद ही जिस जगहे युद्ध हुआ था कुरुक्षेत्र की भूमि को जला दिया गया था. और आपको बता दे की ऐसा इसलिए भी किया गया था ताकि हर एक मृत योद्धा को स्वर्ग में जगह मिले और उनके शवों का शुद्धिकरण हो जाए। 

0 comments: