Thursday, 28 June 2018

क्या आप जानते हो की हमारा 'देश' भारत 15 August 1947 की रात 12 बजे ही क्यों आजाद हुआ था

यह तो हर कोई जानता है की हमारा देश हर साल 15 August,1947 के दिन का जश्न मनाता है. और यह भी जानते होगे की इसी दिन हमारे देश को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इसी दिन यानीकी 15 August 1947 को रात को 12 बजे ही क्यू आजाद हुआ था हमारे देश को इसी दिन आजादी क्यों मिली टी किसी और दिन क्यू नहीं मिली तो आइए आपको आज हम बताते हैं कि आखिर ऐसा क्यों कि हमारे देश भारत को 15 August 1947 की रात ही 12 बजे आजादी क्यों मिली थी। भारत 15 August 1947 की रात 12 बजे ही क्यों आजाद हुआ था बजे ही क्यों आजाद हुआ था

साल 1947 ही क्यों चुना गया तो आपको बता दे की पहली योजना में ये तय किया गया था कि भारत देश को जून, 1948 को आजाद किया जाएगा. लेकिन वाइसराय बनने के तुरंत बाद लार्ड माउंटबैटन ने भारतीय नेताओं से बात करना शुरू कर दी थी और उधर जिन्ना और नेहरू के बीच बंटवारे को ले कर पहले से ही विवाद चल रहा था. आपको बता दे जिन्ना ने अपना एक अलग देश बनाने की मांग की और इसी के चलते भारत देश के कई हिस्सों में साम्प्रदायिक दंगे होना शुरू हो गए. माउंटबैटन की ऐसे हालात की उम्मीद नहीं थी, और इसीलिए इससे पहले कि देश के हालात और बिगड़े, आजादी साल 1948 की जगह 1947 में ही देने की बात तय हो गयी। 

15 August की तारीख ही क्यों चुनी गई बता दे की 15 August की तारीख को चुनने का अहम कारण ये था कि लार्ड माउंटबैटन 15 August की तारीख को शुभ मानते थे क्योंकि द्वितीय विश्व युद्ध के समय 15 August, 1945 को जापान की आर्मी ने आत्मसमर्पण किया था और उस समय लार्ड माउंटबैटन अलाइड फोर्सेज के कमांडर भी थे. इस लिए यह फ़ैसला लिया गया। 

रात 12 बजे का ही Time क्यों जब लार्ड माउंटबैटन ने हमरे देश भारत की आजादी की तारीख 3 जून, 1948 से 15 अगस्त, 1947 कर दी तो भारत के ज्योतिषियों को उनका ये फैसला रास नहीं आया औरिसकी बजहा थी की वो इस तारीख को शुभ नहीं मानते थे. और इसके चलते लार्ड माउंटबैटन को दूसरी कई तारीखें भी बताई गईं, लेकिन वो 15 August पर अडिग थे. फिर इसके बाद ज्योतिषियों ने एक रास्ता निकाला. उन्होंने 14 और 15 अगस्त की रात को 12 बजे का समय तय किया गया और एसा इस लिए क्योंकि अंग्रेजों के हिसाब से दिन 12 AM पर शुरू होता है लेकिन हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से सूर्योदय पर। भारत 15 August 1947 की रात 12 बजे ही क्यों आजाद हुआ था

और इसके लिए देश के ज्योतिषियों ने नेहरू जी से यह भी कहा था कि उन्हें अपनी आजादी का भाषण अभिजीत मुहूर्त यानी 11:51 PM से 12:39 AM के बीच ही खत्म करना होगा. भाषण के बाद शंखनाद किया जाएगा और एक नए देश के जन्म की गूंज दुनिया तक पहुंचाई जाएगी. तो आपको यह पोस्ट कैसी लगी आप हमे कमेंट करके जरूर बताना और इस जानकारी को अपने दोस्तो के साथ शेयर जरूर करना शुक्रिया। 

0 comments: