Saturday, 26 May 2018

इस किले की रखवाली करता है जिन्न आप भी जानिए क्यों है यह किला इतना खास

पारस पत्थर एक ऐसा पत्थर होता है जिसके छूने पर लोहा भी सोना बन जाता है। इस पारस पत्थर को लेकर बहुत सी कहानियां बनी हुई हैं, आपको बता दे की यह पत्थर आज के समय में कही भी देखने को नहीं मिलता है। लेकिन आज भी कुछ लोगों का यह मानना है कि भोपाल से लगभग 50 किलोमीटर दूर रायसेन के किले में आज भी यह पारस पत्थर मौजूद है। 
paras paththar
इतिहास मे लिखा है की इस पारस पत्थर को पाने के लिए कई सारे युद्ध किए गए थे लेकिन बह पारस पत्थर किसी के हाथ नहीं लगा और जब यहां के राजा को यह लगा कि अब वो इस पारस पत्थर की सुरक्षा नहीं कर सकते है तो उसने इस पारस पत्थर को यहां पर मोजूद एक तालाब के अंदर फैंक दिया था और फिर इसके कुछ समय बाद एक युद्ध के दौरान यहा के राजा की मौत हो गई और यह किला उसके बाद एकदम विरान सा हो गया।
पारस पत्थर
कुछ लोग तो आज भी इस पत्थर की तलाश तलाश मे लगे हैं, यहा कुछ लोग तो रात के समय इस पत्थर की खोज करने के लिए अपने साथ एक तांत्रिकों को भी लेकर जाते हैं लेकिन अभी तक यह पत्थर किसी के हाथ नहीं लगा है। हम आपको बता दे की यहां के लोगों का मानना है कि इस किले में एक जिन्न रहता है जो की इस अनमोल पारस पत्थर की रक्षा करता है। जब भी कोई इस किले मे पत्थर को खोजने जाता है तो बह जिन्न को देखकर अपना दिमागी संतुलन खो देता है एसा यहा के लोगोका मानना है क्या ऐसा सच मे हो सकता है आप कमेंट करके जरूर बताना शुक्रिया।

0 comments: