Wednesday, 23 August 2017

मिल गयी वजह- आखिर रंग, बिरंगे क्यों होते हैं पक्षियों के पंख,


 
अक्सर हम जब भी किसी पक्षी को देखते हैं तो हमारे मन ने एक सवाल आता है कि आखिर इसकी संरचना इतनी अच्छी कैसे है ऐसे बहुत से पक्षी हर दिन देखने को मिलते रहते जिनके पंखो पर एक सुन्दर आकृति बनी होती है या ये भी कह सकते है उनके पंख काफी चमकीले और सुंदर होते हैं हर पक्षियों में अलग तरह के पैटर्न देखने जाते है लेकिन आपने कभी ये सोचा है ऐसा क्यों होता है इसके पीछे क्या कारण है



 
और अब आपको ये जानकार हैरानी होगी पक्षियों के पंखों में जो पैटर्न देखते हैं वे छोटे छोटे धब्बों तराजू के आकार और छड़ों के आकार की जटिल संरचनाओं के संयोजन से बने होते हैं इसके पीछे मैलानिन नामक पिगमेंट की महत्वपूर्ण भूमिका है जो पक्षियों की 9,000 प्रजातियों में पंखों के जटिल पैटर्न बनाने का काम करता है



 
पक्षियों में मौजूद उनके रंग-बिरंगे पंख को हम अपनी आंखों से देख सकते हैं जोकि जटिल संरचनाओं के संयोजन से बने होते हैं लेकिन यह एक बड़ा रहस्य है कि ये खूबसूरत पैटर्न बनते कैसे हैं



 
डॉ। इस्मारल गाल्वान और उनकी टीम ने पक्षियों के रंग-बिरंगे पंखों के बारे में करीब से जानने के लिए अध्ययन किया इसमें जो बात सामने आई पक्षियों के रंगीन पंख मुख्य रूप से दो तरह के पिगमेंट्स या रंगों की वजह से होते हैं मेलानिन जो काले, भूरे, नारंगी रंगों और कैरोटीनॉड्स का उत्पादन करता है ये पंखो को चमकीला और कलर्फुल बनाता है



 
पक्षी खुद कैरोटीनॉइड का उत्पादन नहीं कर सकते पक्षियों को चमकीले रंग वाले पंखों के लिए वो चीजें खानी होती हैं जिनमें ये रंग उपस्थित हों और इस तरह से कैरोटीनॉयड पक्षियों में खून के जरिये ये रंग उनके शरीर में फैलाते हैं पक्षियों के शरीर में कैरोटीनॉयड जमा नहीं हो सकता और न ही विशिष्ट पंख संरचनाओं पर उन का नियंत्रण होता है


 
पक्षियों के पंख इतने रंग-बिरंगे कैसे होते हैं इसके लिए 9 हजार पक्षियों की प्रजातियों का अध्ययन किया गया पक्षियों की तीन प्रजातियां ऐसी भी होती हैं जिन्हें अपने रंग-बिरंगे पंखों के लिए मेलानिन की जरुरत नहीं पड़ती है फ्रूट डव्स इनमें से एक है



 

0 comments: